Marwar Muslim Educational & Welfare Society
You are here: Home / Latest News / ‘युवा बचाओ - देश बचाओ‘ - एसीपी सीमा हिंगोनिया

‘युवा बचाओ - देश बचाओ‘ - एसीपी सीमा हिंगोनिया

October 05, 2017

‘युवा-अपराध, कारण एवं निवारण‘ विषयक जागरूकता कार्यक्रम हुआ आयोजन

आपका एटीएम ब्लाॅक होने वाला है आप अपना सोलह अंक के नम्बर हमें बता देें। आपकी लाॅटरी निकली है। आपका पैकेज निकला है। आप इतनी राशि जमा कराओगे तो ये सुविधा मिलेगी। आप लालज में आकर इन बातों के झांसे में न आये तथा मोबाइल व इन्टरनेट के दुरूपयोग से बचे और इनका सही उपयोग करें।

ये कहना है सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) सीमा हिंगोनिया का। वे जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट के ‘सेव यूथ सेव नेशन‘ (युवा बचाओं - देश बचाओं) जागरूक कार्यक्रम के तहत कमला नेहरू नगर स्थित मौलाना आज़ाद मुस्लिम बीएड महाविद्यालय सभागार में ‘युवा - अपराध, कारण एवं निवारण‘ विषयक सेमीनार में बतौर मुख्य वक्ता बीएड महिला एवं बीएड सहशिक्षा प्रशिक्षणार्थियों को सम्बोधित कर रही थी।

एसीपी हिंगोनिया ने अट्ठारह वर्ष से छोटे किशोर युवक-युवतियों के हवाले से कहा कि ब्लू व्हेल न गेम है न ऐप, यह एक ट्रेप है जिससे हमें अपने बच्चों को बचाना होगा और उन पर नज़र रखनी होगी कि वे मोबाइल व इन्टरनेट पर किस प्रकार की साम्रगी का उपयोग कर रहे हैं। उन्होंने पाॅवरपोइन्ट प्रजेन्टेशन के माध्यम से अपराध के प्रकार जैसे हत्या, हत्या का प्रयास, बलात्कार, रेगिंग, लूट, चोरी, नकल करना, चैन स्नेचिंग, मोबाईल स्नेचिंग, बेग लिफ्टिंग, बगेर हेलमेट सवारी, दो से अधिक सवारी आदि हादसों के विडियो दिखाकर जानकारी दी और बचने के उपाये बताये।

एसीपी हिंगोनिया ने जोधुपर एवं राष्ट्रीय स्तर की हालिया घटनाओं, आत्महत्याओं का जिक्र करते हुए उसके पीछे छिपी मनोदशा और मनोवैज्ञानिक दबाव के बारें में भी बताया। अपने दोस्त, सहपाठियों व घरवालों पर नज़र रखें कि क्या वे भी इन बुरी लतों के आदतन अपराधी तो नहीं हो गये हैं। अगर है तो उनका मनोवैज्ञानिक इलाज करायें। उन्हें डिप्रेशन से निकालें। तकनीकी अपराध एवं तकनीकी कारण पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि के अच्छे इन्टरनेट यूजर को चाहिए वो किसी अन्य की आईडी को न देखें, उसका डेटा न चुरायें, हैक न करें और अश्लील साम्रगी का आदान- प्रदान कतई न करें। ये साइबर क्राइम है और इस पर कड़ी सजा का प्रावधान है। अन्त में साइबर एक्ट, जुविनाइल एक्ट एवं कानून से सम्बन्धित अन्य जानकारियां दी। संवाद कार्यक्रम में महिला बीएड़ एवं सहशिक्षा बीएड़ के छात्रध्यापक एवं छात्राध्यापिकाओं ने प्रशन पूछकार अपनी जिज्ञाओं को शान्त किया। प्रिन्सीपल सपना सिंह राठौड़ ने कहा कि कार्यक्रम का उद्देश्य देश व समाज में फैल रही आपराधिक गतिविधियों के प्रति युवाओं में जागरूकता लाना है।

कार्यक्रम में मारवाड मुस्लिम एज्यूकेशनल एण्ड वेलफेयर सोसायटी के महासचिव मोहम्मद अतीक, सदस्य रऊफ अंसारी, फिरोज अहमद काजी, सलीम खिलजी, व्याख्याता सलीम अहमद, गीता शर्मा, तनवीर अहमद काजी, कान्ता मिश्रा, मोहम्मद रफीक, ममता सिंह, अरविन्द व्यास, नेहा यादव, काॅन्स्टेबल योगेश दाधिच सहित समस्त प्रशिक्षणार्थियों ने शिर्कत की। पूर्व में सोसायटी महासचिव मोहम्मद अतीक ने मुख्य वक्ता का स्वागत किया। धन्यवाद डाॅ. सपना सिंह राठौड ने दिया। संचालन मोहम्मद इकबाल चुंदडीगर ने किया।